Author Topic: कोशिशे .....  (Read 600 times)

Offline Ashok_rokade24

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 70
कोशिशे .....
« on: March 31, 2019, 06:40:49 PM »
दर्द छुपानेकी कोशिश मे .
हर पल निकल जाता है ,
लेकिन छलकता है गम ,
जब कोई अपना मिलताहै ,

भिड तो यहाॅ बहोत लगी है ,
लेकीन फुरसत किसी को नही ,
बस वोही अपना होता है ,
जो दुख मे भी साथ देता है ,

बहोत कुछ खोया है हमने ,
लेकिन कुछ तो पाया भी है ,
मंझधार मे बहते थे हम ,
किनारा आप जैसा मिला है ,

कोशिश लाख किये छुपानेकी,
लेकिन कुछ भी छुपा नही सके ,
जब छाता है अंधेरा मायूसी का ,
सहारा आपका नजर आता है ,

ये न समझना नाराज है जिंदगीसे ,
कभी कभी बारीश गम की होती है ,
ऑसू भी सूखगये छुपायें अब क्या ,
खूश रहने की कोशिश करते है ,

                                 अशोक मु .रोकडे.
                                  मुंबई.



Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
Type the letters shown in the picture
Listen to the letters / Request another image
Type the letters shown in the picture:
तेरा अधिक दोन किती? (answer in English number):