Author Topic: भगवान सब जानता हैं!  (Read 302 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 349
  • Gender: Female
भगवान सब जानता हैं!
« on: December 10, 2017, 08:12:31 PM »
"भगवान जानता हैं मैं सही हूँ"
मुझे किसी को बताने की ज़रूरत नहीं हैं!
.
"भगवान जानता हैं मेरा दिल साफ हैं"
मुझे किसी को साबित करने की ज़रूरत नहीं हैं।
.
"भगवान जानता हैं मुझे किसकी कितनी परवाह हैं"
मुझे किसी को दिखाने की जरूरत नहीं हैं।
.
.
मेरी जान??? अगर तुम्हें सारे जवाब भगवान को ही देने हैं, तो तुम सीधे सीधे संन्यास काहे नहीं ले लेते?? 😆

.
इसमें कोई शक नहीं, की उपरवाले के दरबार में सब को इंसाफ मिलता हैं! किसी के साथ ज़ुल्म नहीं होता!

.
उधर जो होगा वो तो होगा ही!

.
लेकिन यहाँ पर अगर कोई "भगवान" का इतना ही "मुरीद" हो रखा हैं, तो फिर मरने का ख़ौफ क्यूँ कायम हैं और जीने की जद्दोजहद क्यूँ जारी हैं?

.
"मुझे मौका मिला हैं बोलने का", पर मैं बोलूंगा नहीं!

.
"मुझे मौका मिला हैं साबित करने का, की क्यूँ मैं ही सही हूँ और क्यूँ तुम ही गलत हो! लेकिन मैं बोलूंगा नहीं!

.
"मुझे मौका मिला हैं गलतफहमी दूर करने का और सब कुछ सही करने का", लेकिन फिर भी मैं बोलूंगा नहीं!

.
क्यूँ??????????????

.
क्यूँ की मेरे "अहम" पर, मेरे so called "ego" पर पर्दा डालने के लिए मेरे पास बेहतरीन जवाब मौजूद हैं!!

.
"भगवान सब जानता हैं"!!!!
~ श्रद्धा

Marathi Kavita : मराठी कविता