Author Topic: ==* दिवाली आई *==  (Read 204 times)

Offline SHASHIKANT SHANDILE

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 364
  • Gender: Male
  • शशिकांत शांडिले, नागपुर
==* दिवाली आई *==
« on: November 13, 2017, 04:43:44 PM »
दिया तेल बाती है रंगी रंगोली
खिला आसमां है पटाखों की रेली
बड़े बूढ़े बच्चे सब मिलके मनाये
ख़ुशी का है मौका आई दिवाली

लिखू मै बधाई दिवाली है आई
सजाऊँ घर आँगन मै लाऊँ मिठाई
बड़े शोर से ना जलाऊं पटाखे
दिया ही बहोत है मन में गर आई

आंगन में गोवर्धन है श्रद्धा ये प्यारी
धनतेरस से लेकर गजब तयारी
भाई दूज की पूजा अनोखी है लागे
अंत मे जो आती पंचमी वो न्यारी

है त्योहार सबका न धर्म न जाती
सभी के घरों में रोशनी जगमगाती
चलो आओ मिलकर मनाये दिवाली
सौगात कितनी दिवाली ये लाती
---------------------------//**--
शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
Its Just My Word's

शब्द माझे!

Marathi Kavita : मराठी कविता