Author Topic: इश्क-विश्क में पड़ने की अब हिम्मत नहीं होती।  (Read 614 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 349
  • Gender: Female
महज दो-चार बातों कि कीमत नहीं होती
बातें ही तो करनी हैं, पर जूर्रत नहीं होती
.
वाकीफ हूँ गुफ्तगू के आगाज से अंजाम तक
इश्क-विश्क में पड़ने की अब हिम्मत नहीं होती।
~ अनामिका