Author Topic: हम हैं कि चेहरों को पढ़ के चलते हैं।  (Read 309 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 348
  • Gender: Female
अपने तजुर्बों को पकड़़ के चलते हैं
लोग समझते हैं, अकड़ के चलते हैं।
.
रिहा किया हैं, चंद लफ्जों ने दिलों से
तभी ख़ामोशी में जकड़ के चलते हैं।
.
इम्तहान रिश्तों के पार होंगे भी कैसे?
हम हैं की चेहरों को, पढ़ के चलते हैं।
.
वो लोग जो किसी के झमेलो में न रहें
शायद ख़ुद से ही, झगड़ के चलते हैं।
~ श्रद्धा