Author Topic: ये खेल तो वकील की दलील का हैं।  (Read 241 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 348
  • Gender: Female

जो बात शोलों  की आग में होती हैं
वो हि  चिंगारी में, चराग़ मे  होती हैं।
.
कमाल यहाँ पर, रागिनी भी करती हैं
धुन क्या फ़क़त एक राग़ में होती हैं?
.
ये खेल तो वकील की दलील का हैं
भले ही  सच्चाई सुराग़ मे होती हैं।
.
सफेद रंग से तो अंजाम  होता हैं
आग़ाज-ए-ज़िन्दगी दाग़ में होती हैं।
~ श्रद्धा