Author Topic: उदासी  (Read 155 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 349
  • Gender: Female
उदासी
« on: June 09, 2018, 10:24:28 PM »
दिल की दहलीज़ पर ताला पड़ा रहता हैं
मुसलसल उदासी से, पाला पड़ा रहता हैं।
.
इस क़दर फ़ाक़ा मिरी क़िस्मत में आया हैं
देर तलक हाथ में, निवाला पड़ा रहता हैं।
.
पहलू से अंधेरे के, क्यूँ रातरानी महकी
सोच सोच के सवेरा काला पड़ा रहता हैं।
.
लडखडा क्या गए ज़रा, नादानी में कदम
संग आते हर पैर में, छाला पड़ा रहता हैं।
~ श्रद्धा

Marathi Kavita : मराठी कविता


Offline कवि - विजय सुर्यवंशी.

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 481
  • Gender: Male
  • सई तुझं लाघवी हसणं अजुनही मला वेड लावतं.....
Re: उदासी
« Reply #1 on: June 10, 2018, 11:07:03 AM »
लडखडा क्या गए ज़रा, नादानी में कदम संग आते हर पैर में, छाला पड़ा रहता हैं।
अतिशय सुरेख ओळी लिह्ल्या आहेत...... :) :) :) :) :) :) :)     
« Last Edit: June 10, 2018, 11:08:05 AM by कवि - विजय सुर्यवंशी. »