Author Topic: न होना कभी जुदा .........  (Read 98 times)

Online SHASHIKANT SHANDILE

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 364
  • Gender: Male
  • शशिकांत शांडिले, नागपुर
न होना कभी जुदा .........
« on: July 10, 2018, 02:23:55 PM »
चाहत मेरी
बेगानी मुहब्बत
मेरी आशिकी
तुम्हारी इबादत
न होना कभी जुदा

न चाहो मुझे
ये तुम्हारी है मर्जी
मेरी दिल्लगी
है मेरी खुदगर्जी
न होना कभी जुदा

मंजिल नही
होने पाएं जुदाई
हो जाएं भले
जिंदगी की बिदाई
न होना कभी जुदा

तुम्हे क्या पता
क्या चाहत है मेरी
तुम्हे चाहना
ये आदत है मेरी
न होना कभी जुदा

भुला दो मुझे
या अपना बनालो
दो चार पल
हस कर बितालो
न होना कभी जुदा

©शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
Its Just My Word's

शब्द माझे!

Marathi Kavita : मराठी कविता