Author Topic: मुश्किल था बेचैनी से किनारा करना...  (Read 176 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 349
  • Gender: Female
मुश्किल था बेचैनी से किनारा करना
सो सीख लिया इसी में ग़ुज़ारा करना।

बुलंदी पे चढ़कर, नतीजा ये निकला
कि तमाम चेहरों को तुम उतारा करना।

शराफत के अपने, कुछ उसूल है जाना
मुश्किल है नज़ारों का नज़ारा करना।

गंवा  कर उसको, ये  जाना है  मैंने
नामुमकिन है ख़ुद को गवारा करना।
~ Shraddha R. Chandangir