Author Topic: अजी सुनिये जनाब .........  (Read 64 times)

Offline SHASHIKANT SHANDILE

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 367
  • Gender: Male
  • शशिकांत शांडिले, नागपुर
अजी सुनिये जनाब .........
« on: September 07, 2018, 10:49:32 AM »
बहुत ठगा है भैया तूने
अपने बोल बचन से
धीरे से क्यों पल्ला झाड़े
अपने ही वचन से

बेवकूफ़ क्या तूने जानी
जनता भारत देश की
धीरे धीरे देखेगा तू भी
हद जनता के आवेश की

बोल बचन से अबतक तेरे
"अच्छे दिन" ना आएं
जाती धर्म के दांव पेंच में
"विकास" को भुलाएं

आरक्षण का दांव चलाकर
तूने जो तीर है मारा
न्यायालय को आँख दिखाई
तबसे दिल है हारा

ऐसे कैसे आखिर तुमको
"सबका साथ" मिलेगा
जोड़तोड़ की राजनीति से
"किसका विकास" होगा

जानलों भारत की जनता
इतनी भी सोई नही है
तुम को लगता होगा लेकिन
सपनों में खोई नही है

सपनों में खोई नही है
-----------------------//**---
शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
Its Just My Word's

शब्द माझे!

Marathi Kavita : मराठी कविता