Author Topic: कौनसा गुन: कीया..!  (Read 535 times)

कौनसा गुन: कीया..!
« on: November 17, 2015, 09:17:18 PM »
तुझसे जुड़ने की ख्वाहिश रखी तो कौनसा गुनः किया....
लोग तो मंदिरोंमें जाके पूरी कायनात मांगते हैं...
मेने....
प्यार को भगवान माना तो कौनसा गुनः किया....
       -विद्रोही प्रेमवीर.

Marathi Kavita : मराठी कविता