Author Topic: मुहब्बत का हमने जाम ले लिया ! (गजल काव्य)  (Read 637 times)

Offline SHASHIKANT SHANDILE

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 379
  • Gender: Male
  • शशिकांत शांडिले, नागपुर
मुहब्बत का हमने जाम ले लिया ,
जुदाई इबादत का दाम ले लिया !!

वो खुश है अकेले हो हमसे जुदा ,
तो हमने भी आखरी सलाम ले लिया !!

फरेबी मुहब्बत में वादाखिलाफी,
न जानो कोई इंतकाम ले लिया !!

कही हो न जाए रुसवा मुहब्बत,
अगर हमने उनका नाम ले लिया !!

चैन है गवाया कर उनसे मुहब्बत ,
जागती रातो का पैगाम ले लिया !!

निले आसमां में नदारत है बादल ,
यहा किसने अपना काम ले लिया !!

जी रहा हैं शशी आज भी मुस्कुराकर,
न जाने क्यों ऐसा अंजाम ले लिया !!
-------------------//**--
शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
« Last Edit: May 09, 2018, 12:46:56 PM by SHASHIKANT SHANDILE »
Its Just My Word's

शब्द माझे!


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
Type the letters shown in the picture
Listen to the letters / Request another image
Type the letters shown in the picture:
एकावन्न अधिक पाच किती ? (answer in English number):