Author Topic: मौत आ जाए मगर ………  (Read 133 times)

Offline SHASHIKANT SHANDILE

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 369
  • Gender: Male
  • शशिकांत शांडिले, नागपुर
मौत आ जाए मगर ………
« on: October 26, 2018, 04:44:05 PM »
गुफ़्तगू हो शायरी में शायरी में गम न हो
हो इनायत बस खुदा की आँख कोई नम न हो

हो मुहब्बत इस फ़िजा में आसमां हो ख़ुशनुमा
दे सुनाई मुस्कुराहट दर्द का मातम न हो

आरजू का है इजाफ़ा कम न होती प्यास है
पेट भर जाए गरीबी भूक का आलम न हो

सोच लो की भागना है कब तलक यूँ दर्द से
चाह में अच्छे दिनों के हादसे कायम न हो

खूब देखे है नजारे मौत से लिपटे हुए
मौत आ जाए मगर वो जिंदगी से कम न हो
——————————-//**–
शशिकांत शांडिले, नागपुर
भ्र.९९७५९९५४५०
Its Just My Word's

शब्द माझे!

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
अकरा गुणिले दोन किती ?  (answer in English number):