Author Topic: तडप  (Read 551 times)

Offline smeshram48

  • Newbie
  • *
  • Posts: 13
तडप
« on: January 31, 2018, 01:37:32 PM »
हर पल हर लमहा,
तेरा इंतजार किया है मैंने,
तुझसे दूर होकर भी,
हर गम को पिया है मैंने |

तुझसे बिछड़ कर एक पल भी,
मुझ से जिया नहीं जाता,
दर्द तो नहीं होता इस दिल को मगर,
फिर भी इन जख्मों को सोया नहीं जाता |

नहीं जानता मैं,
वह तुम थी या तुम्हारा साया था,
जो ना सो कर भी,
मेरे ख्वाबों में आया था |

इस दिल की तडप ही,
तुझ को मेरे पास लाएगी,
अगर मेरे बहते हुए अश्कों में,
तुझे तेरी तस्वीर नजर आएगी |

                     शैलेश मेश्राम

Marathi Kavita : मराठी कविता