Author Topic: बेगाना ....?  (Read 288 times)

Offline Ashok_rokade24

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 71
बेगाना ....?
« on: June 19, 2019, 06:26:05 AM »
अपनोकी भीड लगी है ,
                हर चेहरा बेगाना लगता है ,
इस अपनोंकी भीड में  ,
                ईक बेगाना चेहरा अपना लगता है ॥

उठती है जब नजर  ,
                 प्यारआँखों में नजर आता है ,
धिरेसे जब मुस्कुराता है ,
                 ईक सकुनसा मिलता है ॥

      ईक बेगाना चेहरा अपना लगता है ॥

रिश्तेका मोहताँज नही ,
                  अपनापन भरा हुआँ है ,
हरदम दुआँ करता है ,
                   चाहत खुशीकी रखता है ॥

      ईक बेगाना चेहरा अपना लगता है ॥

क्या रिश्ता है उसका ,
                    खुशीमे साथ खिलता है ,
कयाँमत हमपर आये ,
                    आँसूओंमे वो डूब जाता है ॥

      ईक बेगाना चेहरा अपना लगता है ॥

क्यूँ अक्सर होता है ऐसे ,
                      अपना बेगाना होता है ,
जीसे परायाँ समझते है ,
                       वह दिलमें बस जाता है ॥

      ईक बेगाना चेहरा अपना लगता है ॥

तनहाँ रह गये हम ,
                   फिरभी कोई गम नही ,
जब भी याँद करू दिलसे ,
                    वह चेहरा नजर आता है ॥

          ईक बेगाना चेहरा अपना लगता है ॥

                                अशोक मु.रोकडे .
                                 मुंबई.
« Last Edit: July 11, 2019, 05:11:33 AM by Ashok_rokade24 »

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
Type the letters shown in the picture
Listen to the letters / Request another image
Type the letters shown in the picture:
एकावन्न अधिक पाच किती ? (answer in English number):