Author Topic: दोस्ती  (Read 2690 times)

Offline Dineshdada

  • Newbie
  • *
  • Posts: 37
दोस्ती
« on: September 30, 2015, 02:18:17 AM »
जाने दो भाई
मैंने ली अंगड़ाई
छोड़ छाड़ के सब
सबको दी दुआई
जब मेरी बारी आई
तो सबने दी बद्दुआई
समय आ गया अब
सबसे लू बिदाई
सबसे करके प्यार
होगी अब जुदाई
मेरा मेरा करके
सबकी की भलाई
झेल के हर आफत को
खुषिया तुमको दिलाई
क्या हुवा कसूर हमारा
हमसे नैन चुराई
दिल में सबको रखा हमने
क्यू हमारी दोस्ती भुलाई

       रचनाकार
🙏🏻दिनेश पलंग🙏🏻
   7738271854

Marathi Kavita : मराठी कविता