Author Topic: अंत में लीन हो जाऊँगा  (Read 467 times)

Offline Dineshdada

  • Newbie
  • *
  • Posts: 37
अंत में लीन हो जाऊँगा
« on: October 05, 2015, 08:23:00 PM »
में चलता रहूँगा
कर्म अपने आप होगा

में दान करूँगा
धर्म अपने आप होगा

मनो भाव सेवा करूँगा
फल अपने आप मिलेगा

दुसरो को खुश रखूँगा
ना अपने वर्म को भुलूंगा

सच्चे राह पे चलूँगा
सद्गुरु का सिमरन करूँगा

माँ बाप को शरण रहुँगा
परमपिता को पेहेचान लूँगा

संसार करके ही परमारर्थ
करूँगा

गुरु भक्तिको नहीं छोड़ूंगा
नाम उनका जपते रहुँगा


संकटो का बेडा पार करूँगा
गुरु वचन पर चलते रहूँगा

हर आफत को सहते रहूँगा
मोक्ष प्राप्त करके दिखलाऊँगा

धरती पर नाम छोड़आऊँगा
अंत में लिन तो हो जाऊँगा
 👉🏻रचनाकार👈🏻
🙏🏻दिनेश पलंगे🙏🏻
7738271854

Marathi Kavita : मराठी कविता