Author Topic: * हम ना होंगे *  (Read 336 times)

Offline कवी-गणेश साळुंखे

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 883
  • Gender: Male
* हम ना होंगे *
« on: April 01, 2015, 02:32:50 PM »
सोच ले गर हम ना होंगे
तो तेरी महफिल में रंग कौन भरेंगे
चारोतरफ मायुसी के सन्नाटे होंगे
और तुम्हारी आँखोमे अश्क होंगे.
कवी-गणेश साळुंखे.
Mob-7715070938

Marathi Kavita : मराठी कविता