Author Topic: * ख्वाहिशें *  (Read 324 times)

Offline कवी-गणेश साळुंखे

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 883
  • Gender: Male
* ख्वाहिशें *
« on: September 17, 2015, 11:11:37 PM »
ख्वाहिशें तो हजारों है
इस दिल-ए-नादान की
जमींपर रखकर अपने कदम
आसमान को छुने की
पर बंदिशें भी लाखों है
इसीलिए रह जाती अधूरी
कहानी इस दिल-ए-नादान की.
कवी - गणेश साळुंखे.
Mob - 7715070938

Marathi Kavita : मराठी कविता