Author Topic: * तेरे शहर में *  (Read 336 times)

Offline कवी-गणेश साळुंखे

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 884
  • Gender: Male
* तेरे शहर में *
« on: September 25, 2015, 01:51:16 PM »
हैं ख्वाब कइ इन आँखोंमें
फिर भी है मुस्कान गालोंमें
कुछ करके जरुर दिखायेंगे हम
यूँही नहीं चले आए तेरे शहर में.
कवी - गणेश साळुंखे.
Mob - 7715070938

Marathi Kavita : मराठी कविता