Author Topic: * वो *  (Read 361 times)

Offline कवी-गणेश साळुंखे

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 883
  • Gender: Male
* वो *
« on: September 30, 2015, 12:43:24 PM »
क्या किस्मत मिली है हमको
वो खुद जख्म भी देती है
और खुद ही इलाज करती है
यही अदा उसकी हमको भाती है.
कवी - गणेश साळुंखे.
Mob - 7715070938

Marathi Kavita : मराठी कविता