Author Topic: * दिल मेरा *  (Read 406 times)

Offline कवी-गणेश साळुंखे

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 883
  • Gender: Male
* दिल मेरा *
« on: October 01, 2015, 10:08:28 PM »
हर बार टूटा है दिल मेरा
फिर भी ये बाज नहीं आता
शायद चोट खाए बिन इस
कमबख्त को सुकुन नहीं मिलता.
कवी - गणेश साळुंखे.
Mob - 7715070938

Marathi Kavita : मराठी कविता