Author Topic: * हमारा चाँद *  (Read 241 times)

Offline कवी-गणेश साळुंखे

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 884
  • Gender: Male
* हमारा चाँद *
« on: October 26, 2015, 11:50:42 PM »
माना के आज चाँद
पुरा है फलक पर
पर हमारा चाँद नही आया
मिलने अभीतक छत पर.
कवी - गणेश साळुंखे.
Mob - 7715070938

Marathi Kavita : मराठी कविता