Author Topic: नफरतों के बाजार में  (Read 990 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 340
  • Gender: Female
नफरतों के बाजार में
« on: November 02, 2014, 01:28:25 PM »
नफरतों के बाजार में जीनेका अलग
ही मजा है....
लोग मुझे "रूलाना" नहीं छोडते.....
और मै "हसना" नहीं छोडती....

- अनामिका
« Last Edit: November 02, 2014, 01:54:11 PM by MK ADMIN »

Marathi Kavita : मराठी कविता

नफरतों के बाजार में
« on: November 02, 2014, 01:28:25 PM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

Naval Dongardive.

  • Guest
Re: नफरतों के बाजार में
« Reply #1 on: November 02, 2014, 04:38:54 PM »
कितने फुलो सें नाजुक,
तेरे ये बोल है।

ये मोहब्बत कें पल भी,
कितने अनमोल है।

                नवल डोंगरदिवे,
               8411011065.

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
पाच अधिक नाऊ अधिक शून्यं  किती ? (answer in English number):