Author Topic: मन में चमकने की चाह रखो....  (Read 806 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 320
  • Gender: Female
मन में चमकने की चाह रखो और फीतरत
मे थोडासा सब्र रखो, क्युकी आसमान में
कीतने भी काले बादल क्यु ना छाजाए...
आखिर में बारिश के रूप मे बेह जाते है... और
रोशनी की कीरन दीख ही जाती है।
- अनामिका

Marathi Kavita : मराठी कविता


shailesh borate

  • Guest
Re: मन में चमकने की चाह रखो....
« Reply #1 on: December 22, 2014, 09:26:32 AM »
Nice kavita anamikaji


DM

  • Guest
Re: मन में चमकने की चाह रखो....
« Reply #3 on: December 29, 2014, 11:29:16 AM »
Ekdum Sahi Baat Anamikaji :)


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
दहा गुणिले नाऊ  किती ? (answer in English number):