Author Topic: खुद को कहा खो बैठे  (Read 653 times)

Offline pankaj8590

  • Newbie
  • *
  • Posts: 3
खुद को कहा खो बैठे
« on: December 21, 2014, 11:15:03 PM »
जीने की वजहा धुंडने निकले इस दुनिया में,
तो बेवजा कुछ ऐसे सितम कर बैठे,
कुछ पाने की आस लिये चल दिये थे,
पर कब पता नहीं खुदको ही कही खो बैठे...

-पंकज जाधव

Marathi Kavita : मराठी कविता