Author Topic: सोच......  (Read 649 times)

Offline Surya27

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
सोच......
« on: October 27, 2014, 10:49:01 PM »
उड़ने के लिए पर जरुरी नहीं,
जरुरी होता है उचा मनोबल.
उचा वही उठ सकता है,
जिसका हौसला हो बुलंद.

इच्छाए तो सब की होती है,
के छू ले उची डगर..
लेकिन छू वही लेते है,
जो रखते है जिगर.

आसमान भी आ सकता है,
हाथो तक तुम्हारे.
हो अगर छूने की चाहत,
और मजबूत इरादे.

मंझिल तो मिल ही जाती है,
सही हो राह अगर.
क्या सही और क्या है गलत,
निर्भर होता है सोचपर.
………………………………………… सूर्या

Marathi Kavita : मराठी कविता