Author Topic: तुही कातिल सरकार मेरी |  (Read 461 times)

Offline विक्रांत

  • Hero Member
  • *****
  • Posts: 1,519
तुही कातिल सरकार मेरी |
« on: December 04, 2014, 09:33:14 PM »
नागन जैसे आँखे तेरी
प्यार भरी जहरी जहरी |
मैं दुनियाको छोड़ आया
तुही जिंदगी मौत मेरी |

बिन तेरे क्या मैं जी लू
आस प्यास तू तलाश मेरी |
बाये काँधेपे बाल रेशमी
फ़सी जिंदगी वहाँ हैं मेरी |

मेरा फैसला तेरे हाथोंमें
तुही कातिल सरकार मेरी |
बस अब और ना तडपाना
कर फैसला तू सुनले मेरी |

इतना एक एहसान कर ले
अबके झोली भर दे मेरी |
तेरे प्यार पर है नौछार
सखी जिंदगी दुनिया मेरी |


विक्रांत प्रभाकर
« Last Edit: December 05, 2014, 10:34:05 AM by MK ADMIN »

Marathi Kavita : मराठी कविता

तुही कातिल सरकार मेरी |
« on: December 04, 2014, 09:33:14 PM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
एक गुणिले दहा किती ? (answer in English number):