Author Topic: गुरुपौर्णिमेच्या हार्दिक शुभेच्छा....  (Read 1201 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 303
  • Gender: Female
ईश्वर हो या ब्रम्हविधाता
या हो जग के चारों धाम
सत्य अनोखा एक ये जाना
श्रेष्ठ हैं सबमें गुरू का नाम
.
काम क्रोध पर कठिन नियंत्रण
और कठिन हैं प्रपंच माया
मिथ्या के इस भवबंधन में
धन्य वो जिसने गुरु को पाया।
.
गुरुभक्ति आसान ना कोई
एकलव्य सा दूजा ना होई
काट अंगुठा गुरुआज्ञा पर
गुरुचरणों में भेट चढ़ाई।
.
मन की पीड़ा मन की शांति
होत अकेला पल पल रोएँ
हैं ये महिमा गुरू नाम का
सुख दुख में ना विचलित होएँ।
.
मृत्युकाल जब सामने तय हो
हरी हो मन में फिर क्या भय हो
नरसिंह्वा बन गुरु जब आएँ
जग भर में प्रह्लाद की जय हो।
.
मात पिता या सगे पराएँ
एक समय सब छोड़ के जाएँ
गुरू सखा और गुरू हि साथी
मोक्षप्राप्ति का मार्ग दिखाएँ।
~ अनामिका

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
एक गुणिले दहा किती ? (answer in English number):