Author Topic: पसीने के श्रींगार से सजी माँ की खूबसूरती देखो कभी....  (Read 287 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 280
  • Gender: Female
अपनी खुद्दारी पे पलता हैं गम इसका सहारा नहीं होता
सीने में मिल्कीयत होती हैं इसकी, ये बंजारा नहीं होता।
.
तुम ढील जैसी देते जाओ, वैसी ही पतंग उडती हैं
खाँमखाँ ही कोई धागा यहाँ आवारा नहीं होता।
.
पसीने के श्रींगार से सजी माँ की खूबसूरती देखो कभी
इससे सुंदर दुनिया में कोई नजारा नहीं होता।
.
कष्ती पानी में छोड़ो गे तो बह ही जाएगी धीरे धीरे
जो रोक ले उसे इतना वफादार किनारा नहीं होता।
.
वो अनशन में हो शामिल या फिर शामिल किसी मोर्चे में
अगर वो संसद का कोई बंदा हैं, तो बेचारा नहीं होता।
~ अनामिका

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
नाऊ वजा आठ  किती ? (answer in English number):