Author Topic: स्वयं को जान  (Read 425 times)

Offline Ruchita Aglawe

  • Newbie
  • *
  • Posts: 4
स्वयं को जान
« on: August 29, 2015, 12:19:42 AM »
स्वयं को जान
ना कर घमंड इस शाही शरीर का
वो तो मिटटी का पुतला है|
ना कर गर्व इस मन का
वो तो सदैव बदलती अवस्था है|
ना कर प्यार इस संसार से
वो तो मोह माया का जाल है| 
ढूंड ख़ुशी अपने आप मे
क्यों की सारा विश्वात्म तुझ् मे बसा है |     
ना बाहर ढूंड किसीको पुर्णत्व के लिए
भीतर जा और जान तू स्वयं मे पुर्णत्व है|   
                          - रुचिता आगलावे
                                    वर्धा

Marathi Kavita : मराठी कविता

स्वयं को जान
« on: August 29, 2015, 12:19:42 AM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

Offline Thesunhi

  • Newbie
  • *
  • Posts: 2
Re: स्वयं को जान
« Reply #1 on: September 07, 2015, 01:44:47 PM »
I think it's really good web than other web ever found this really great.

ravi padekar

  • Guest
Re: स्वयं को जान
« Reply #2 on: September 09, 2015, 11:33:56 AM »
स्वयं को जान
ना कर घमंड इस शाही शरीर का
वो तो मिटटी का पुतला है|
ना कर गर्व इस मन का
वो तो सदैव बदलती अवस्था है|
ना कर प्यार इस संसार से
वो तो मोह माया का जाल है| 
ढूंड ख़ुशी अपने आप मे
क्यों की सारा विश्वात्म तुझ् मे बसा है |     
ना बाहर ढूंड किसीको पुर्णत्व के लिए
भीतर जा और जान तू स्वयं मे पुर्णत्व है|   
                          - रुचिता आगलावे
                                    वर्धा
Khup chhan...

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
दहा गुणिले दहा किती ? (answer in English number):