Author Topic: हर शहजादे के सर पर ताज नहीं होता...  (Read 414 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 328
  • Gender: Female
आज सल्तनत में तकदिरों से राज नहीं होता
अब हर शहजादे के सर पर, ताज नहीं होता।
.
एक ही मिट्टी में मिलता हैं आतंकी और सिपाही
लेकिन हर कब्र को जनाजे पे नाज नहीं होता।
.
कसम खाकर किसी को, कहाँ हजम होती हैं
जिंदा सीने में दफन कोई राज नहीं होता।
.
जिंदगी की दौड़ में जब मंजिल करीब लगने लगें
तो ये वो अंजाम हैं, जिसका आगाज नहीं होता।
~ अनामिका

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
दहा गुणिले नाऊ  किती ? (answer in English number):