Author Topic: तेरी कहानी  (Read 271 times)

Offline Sachin01 More

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 203
  • Gender: Male
तेरी कहानी
« on: September 05, 2015, 09:17:09 PM »
जिस्म के लिए कहलाती है राणी
सच बोले तो तु कहलाती पापीणी!
कोई आपबीती ना सही गलती तो बता,
जन्मे इस पृथ्वी पर यहा रीत है न्यारी !
खुद तो भरी है संसार कि प्रीत से,
काश !कोई जीने देता दो पल खुशी से !
पुरुषी अहंकार को क्यु सुनते है लोग,
मेहनत करे तो भी
तुझे दासी कहलाते है लोग !
इन्सानो कि बस्ती तो अन्याय का कोठा है,
हर कोई शोषन का भुकेला है !
ना है फायदा किसी पढाई का ना है इन्सानियत का,
क्यु सह लेती है जानवरो जैसा अन्याय तु !
तु तो रनमैदानो की निडर झाशी की रानी,
लाखो मनो को समानता सिखाने वाले आंबेडकर की जननी,
इस जहाँ की कोमल कली तु
यूँना मुरझा तु दिखाकितनी कठोर तु!

Marathi Kavita : मराठी कविता

तेरी कहानी
« on: September 05, 2015, 09:17:09 PM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
एक गुणिले दहा किती ? (answer in English number):