Author Topic: जो बेवफाई में तू मेरा हैं तो मुझे हर्ज न था....  (Read 345 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 296
  • Gender: Female
भले ही कीस्सा बेवफाई का कहीं दर्ज न था
जो बेवफाई में तू मेरा हैं, तो मुझे हर्ज न था।
.
तूने समझा की मुझे समझाना तेरा फर्ज न था
तो मैं अंजान ही बनकर रहता, मुझे हर्ज न था।
.
मेरी जान के सिवा, और तूझपर कोई कर्ज न था
तू कीश्तो में साँसे लौटा ता, मुझे हर्ज न था।
.
एक तेरी ही लत थी मुझे, और कोई मर्ज न था
चल तू फरेबी ही सही, पर मुझे हर्ज न था।
~ अनामिका

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
नाऊ वजा एक किती ? (answer in English number):