Author Topic: आली ठुमकत नार लचकत  (Read 425 times)

Offline yallappa.kokane

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 307
  • Gender: Male
आली ठुमकत नार लचकत
« on: October 26, 2015, 07:06:49 PM »
तेरी देख के यह जवानी
दिल हो गया वेड्यावानी
मेरी हर नजर दिवानी
कुछ कहती है सुन मेरी राणी
दोस्तों देखो यह है दिवानी
कैसे चलती है बेगानी

आली ठुमकत नार लचकत
मान मुरडत हिरव्या रानी ||धृ||

हसीनों में से एक है तु
प्यार के ओठों की प्यास है तु
मेरे दिलका इलाज है तु
हर सवाल का जवाब है तु
सपनों में आजा तु चोरपावलांनी

आली ठुमकत नार लचकत
मान मुरडत हिरव्या रानी ||1||

भूला दिया तेरे कारण दूनिया को
आजा, भाव खाती है कायको
अमर बनायेंगे इस प्यार को
आजा चूपकेसे दिलमे बसनेको
तेरे प्यार मे देंगे हम कुरबानी

आली ठुमकत नार लचकत
मान मुरडत हिरव्या रानी ||2||

क्यों सताती है वेड्या मन को
करेंगे तुझको हम बायको
तुझ्या नादाने भूल गया सबको
आजा धावत थाम मेरे हातोको
ये गाऊ मिळून प्रेमाची गाणी

आली ठुमकत नार लचकत
मान मुरडत हिरव्या रानी ||3||

यल्लप्पा सटवाजी कोकणे
25 ऑक्टोबर 2015


9892567264
यल्लप्पा सटवाजी कोकणे
९८९२५६७२६४
बदलापूर

Marathi Kavita : मराठी कविता