Author Topic: बेइम्तेहा-(२)...!  (Read 782 times)

Offline Chottya

  • Newbie
  • *
  • Posts: 9
बेइम्तेहा-(२)...!
« on: September 02, 2015, 12:11:26 PM »
मत कर गुरुर अपने हुस्न पर इतना....
मेरे खयालो में तेरे वजुद से कई ज्यादा ख़ूबसूरत है तू....

-Chottya.. ;)

Marathi Kavita : मराठी कविता