Author Topic: ईश्क मे उनकी हारकर, मेरी मात होने दो।  (Read 1166 times)

Offline Shraddha R. Chandangir

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 340
  • Gender: Female
मान लेंगे हम हार जरा बात होने दो
मोहोब्बत का नशा भी चढेगा जरा रात होने दो।

छुपछुपके देखा है उन्हें खीडकी से अक्सर
इजहार-ए-ईश्क भी होगा जरा मुलाकात होने दो।

इकरार-इनकार की जंग मे आखिर फैसला क्या होगा?
आज रूबरू होकर ऊनसे, दो-चार सवालात होने दो।

जिंदगी भर का साथ? या पल-दोपल मे जुदाई?
चलो चाहे जैसा हो, एक लमहा उनके साथ होने दो।

मोहोब्बत की कुबुली देकर, अगर वो होजाए हमारी,
ईश्क मे उनकी हारकर, मेरी मात होने दो।

- अनामिका
« Last Edit: November 09, 2014, 01:42:20 PM by MK ADMIN »

Marathi Kavita : मराठी कविता


 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
दोन अधिक पाच किती ? (answer in English number):