Author Topic: खुशनसिबी है । राजेश कामत  (Read 642 times)

Offline Rajesh Kamath

  • Newbie
  • *
  • Posts: 6
गमों में डूबकर मुसकुराना खुशनसिबी है ।
उनकी यादों को यूं अपना बनाना खुशनसिबी है ।

जो वो पास हो तो लमहो की धडकने कौन गिनता है।
गुजरते वक्त का यूं ठहर जाना खुशनसिबी है ।

हमारी आँखों मे आज भी तसवीर है उनकी।
हमारी  आँखों मे है यह खज़ाना....खुशनसिबी है ।
« Last Edit: March 21, 2015, 07:09:41 PM by Rajesh Kamath »