Author Topic: कॉलेज की प्रेम कहाणी.....  (Read 1806 times)

Offline Ravi Padekar

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 137
  • Gender: Male
  • प्रयत्न लिहिण्याचा, स्वतः ला व्यक्त करण्याचा...
कॉलेज की प्रेम कहाणी.....
« on: September 18, 2015, 04:59:21 PM »
कॉलेज मे देखा, उसे मेंने पहेली बार
पहेली ही दिनसे, उसपे मरने लगा हू यार
फिर लग गये मेरे दोस्त, हम दोनो को मिलाने
एक एक करके गये, उसका Biodata निकालने

हरी भरी आंखे, उसके गोरे गोरे गाल
मूड मूड के ना देख, गोरी तेरी चुनरी संभाल,
छम छम बाजे पायल, उसके खण खण बाजे कंगण,
बारीश देखणे आयी वो घर के बाहर आंगन

Friendship day के दिन हो गई हमारी दोस्ती
मिलजूटकर हम जब, करने लगे मौजमस्ती
एक दुसरे के Help से बढगई हमारी दोस्ती
हमारी दोस्ती देखकर बारीश हमेशा बरसती

एक दिन ऐसा आया, की मेने सामने उसको पाया
क्या उसको बोलू मेरे समझ मे कूछ नाही आया
प्यार का इजहार करने का मेने मौका बडा गवाया
अखिर दिल की बात दिल मे ही रहकर समाई
उसको देखकर दिल दोस्ती मे नजर आया....!!!

                                                     कवि:- रवि सुदाम पाडेकर
                                                      घाटकोपर, मुंबई.
                                                   .  मो.8454843034

Marathi Kavita : मराठी कविता

कॉलेज की प्रेम कहाणी.....
« on: September 18, 2015, 04:59:21 PM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

arpita deshpande kulkarni

  • Guest
Re: कॉलेज की प्रेम कहाणी.....
« Reply #1 on: September 30, 2015, 05:23:32 PM »
So Sad  :( :P

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
दहा गुणिले दहा किती ? (answer in English number):