Author Topic: डरते है  (Read 419 times)

Offline yogesh desale

  • Newbie
  • *
  • Posts: 15
डरते है
« on: September 22, 2015, 12:52:46 PM »

              डरते है
        - योगेश देसले
गुनाह करके सजा से डरते है,
ज़हर पी के दवा से डरते है.
काफिलोमे अकेले होने से डरतै है,
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे, हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है..।

अंधेरे में परछाईसे डरते है,
दिन में उजालेसे डरते है,
पेडोसे फल खानेमे डरते है,
बीमार होकर मर जाये यह खौफ नहीं हमे, हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है..।

महफिल में ईन्सानोसे डरते है,
शमशान में अकेलेपन से डरते है,
अपनों के साथ बिछडने से डरते है,
खो जाये कही यह खौफ नहीं हमे, हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है..।

पानी में डूबने से डरते है,
जमिपे चलने से डरते है,
आसमानसे गिरने से डरते है,
संभाल ना सके कोई यह खौफ नहीं हमे, हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है..।

हम तारीफ से डरते है,
गलतियाँ करने से डरते हैं,
खुदा के केहेर से डरते हैं,
तोड दे दिल यह खौफ नहीं हमे, हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है..।
         - योगेश देसले

Marathi Kavita : मराठी कविता