Author Topic: नही लगा पाते !!!  (Read 524 times)

Offline haresh1979

  • Newbie
  • *
  • Posts: 10
नही लगा पाते !!!
« on: June 01, 2015, 11:41:31 AM »
आकाश  (गर्दिश ) मैं  तारे  बहोत  होते है ,

जोह  फिर भी गीन नही पाते ,

पेड कि तेहनई  (शाखा ) योह  पर , पाते  और फुल खूब  खिलते  है ,

पर  वह पत्ते  और फुल चून नाही पाते ,

आकाश में  बादल छा  जाते है , धर्ती पर   बूंदे  बनकर बरस जाते है ,

पर  उन  बुन्द्हो  का  हिसाब  , नही  लगा  पाते ,

आपका  हमारा साथ था और  रहेंगा ,

वोह दिन  हम भी कभी गिन नही पायें ,..

-Original (माझी कविता -हरेश )

Marathi Kavita : मराठी कविता

नही लगा पाते !!!
« on: June 01, 2015, 11:41:31 AM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
एक गुणिले दहा किती ? (answer in English number):