Author Topic: याद  (Read 641 times)

Offline Dineshdada

  • Newbie
  • *
  • Posts: 37
याद
« on: September 15, 2015, 01:18:00 PM »
कबर में दफन हुवे कभी जिन्दा नही होते
दिल में रहने वाले कबी कफ़न में नहीं सोते
जनाजा भी अगर उठ जाये तो
यादो के सहारे दिलो में ही रहे जाते
,,,,,,,,,,,,,,,दिनेश पलंगे,,,,,,,,,,,,,,
          7738271854

Marathi Kavita : मराठी कविता