Author Topic: मंजिल है पास मेरे.....  (Read 560 times)

Offline Ravi Padekar

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 146
  • Gender: Male
  • प्रयत्न लिहिण्याचा, स्वतः ला व्यक्त करण्याचा...
मंजिल है पास मेरे.....
« on: September 18, 2015, 05:52:39 PM »
......मंजिल है पास मेरे
चलते दो कदम पे,
ना आगे जाने देगी किस्मत
रुकावट इस दम पे

सपना है साथ मेरे
चलते रास्तो पे,
मगर नही पहुचायेंगे राहे
दिशा बदलेंगे रास्तो पे

तकदीर है साथ मेरे
एक दिन पहुचुंगा सितारो पे,
लेकीन ना बढायेगी आगे बुराई
लकर छोडेगी फिर किनारो पे

होसला है साथ मेरे,
हसील करूंगा जीत मुठी पे,
लेकीन एक दिन,
छिनकर बनाएगी दुनिया कंगाल
ना रखेंगे कुछ खाली हात पे

जिगर है साथ मेरे,
नसीब लेके निकले
हातो की लकीरो पे,
अब ध्यान ना देंगे इनके बातो पे
पट्टी बांधके चलेंगे आंखो पे.........!!!

                                       - रवि  पाडेकर ( मुंबई )

Marathi Kavita : मराठी कविता