Author Topic: थोडासा जिने दो मुझको  (Read 1257 times)

Offline kshitij samarpan

  • Newbie
  • *
  • Posts: 9
थोडासा जिने दो मुझको
« on: March 12, 2015, 12:49:03 AM »
थोडासा जिने दो मुझको
आज न जाने ,क्या याद आ रहा  है  मुझको!

जिंदगी के पीछे , भाग रहा  था मै ,
और जिन्दगी भी क्या खूब आजमा रही थी  मुझको !

रोज एक नये ख्वाब दिखा कर,
क्या खूब जिंदगी भी, जिये जा रही थी  मुझको !

ख्वाबो को पुरा करने  कि मेरी, हर एक कोशिश ,
अपनो से बहुत दूर  ले जा रही थी  मुझको !

ख्वाब तो सारे पुरे  कर लिये हे  आज ,
फिर भी, कूछ  तो कमी सी थी मुस्कुराहाट  कि मुझको !

फिर क्यू जीने को तरस रहा  था मै ,
और जिन्दगी भी क्या खूब आजमा रही थी  मुझको !

         क्षितीज समर्पण

Marathi Kavita : मराठी कविता

थोडासा जिने दो मुझको
« on: March 12, 2015, 12:49:03 AM »

Download Free Marathi Kavita Android app

Join Marathi Kavita on Facebook

 

With Quick-Reply you can write a post when viewing a topic without loading a new page. You can still use bulletin board code and smileys as you would in a normal post.

Name: Email:
Verification:
एक गुणिले एक किती ? (answer in English number):