Author Topic: दिवानो की बाते है  (Read 8280 times)

Offline marathi

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 212
दिवानो की बाते है
« on: January 24, 2009, 12:05:23 PM »
दिवानों की बाते है
इनको लबपर लाये कौन ?
इतना गेहेरा जाये कौन ?
खुदको यु उलझाये कौन ?

जो तु समझा अपना था
वो लमहों का सपना था
हमने दिल को समझाया
अब हमको समझाये कौन ?

तेरी गली मे हो आये
होश वही खो जाये
दिख जाये अगर तू पलभर
मैखाने मे जाये कौन ?

गली गली मे फ़िरते है
कई ठोकरें खाते है
जब तुनेही ठुकराया हमे
अब हमको अपनाये कौन ?

दिवानो की बाते है
sandeep khare

Marathi Kavita : मराठी कविता


Offline santoshi.world

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 1,372
  • Gender: Female
  • मन माझे तुफान वारा, अश्रू माझे पाऊसधारा...
    • My Blog - Kavita, charolya, paintings, rangolies etc.
Re: दिवानो की बाते है
« Reply #1 on: January 16, 2010, 12:10:38 PM »
wahhhhhhhh kya bat kahi !!

जो तु समझा अपना था
वो लमहों का सपना था
हमने दिल को समझाया
अब हमको समझाये कौन ?

Offline PRASAD NADKARNI

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 378
  • Gender: Male
  • Life:-a combination of adjustments & compromises
Re: दिवानो की बाते है
« Reply #2 on: June 01, 2010, 01:32:32 PM »
nice :)

kiran lanke

  • Guest
Re: दिवानो की बाते है
« Reply #3 on: July 10, 2016, 04:10:14 PM »
Wahhh.
Khare saheb
Mastch

Punam NAringe

  • Guest
Re: दिवानो की बाते है
« Reply #4 on: September 19, 2016, 05:45:02 PM »
बेहत ही सुंदर पंक्तिया खरे सर ...

दाद देने का एक तरीका जो मेरे शब्दो को समजा .....

गजबकी एक अदाकारी 
शब्दोसे आपके झलकती है
हरकोई ना समजेगा
ये दिवानो की बाते है ...   
 
पुनम नारिंगे